Latest Activities

6/recent/ticker-posts

पोलाची में यौन-उत्पीड़न मामले के खिलाफ केवाईएस ने किया प्रदर्शन! माँगा मुख्यमंत्री पलानीस्वामी का इस्तीफा!



नई दिल्ली, 14 मार्च 2019: आज, क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) के  कार्यकर्ताओं ने तमिलनाडू के पोलाची में यौन प्रताड़नाओं और बलात्कार की घटनाओं के खिलाफ दिल्ली विश्वविद्यालय के आर्ट्स फ़ैकल्टी के मुख्य द्वार पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। यौन उत्पीड़न और बलात्कार की इन घटनाओं में सत्ता में मौजूद एआईडीएमके  के नेताओं का भी नाम सामने आया है। इस घटना के संबंध में पुलिस ने तीन आरोपियो- सबरीराजन, सतीश, और वसन्त कुमार को 25 फरवरी को गिरफ्तार किया गया, वहीं इस सिलसिले में चौथी गिरफ्तारी 5 मार्च को की गयी| ज्ञात हो की साक्ष्यों को जुटाने, पीडिताओं का पता लगाने, और अपराधियों को पकड़ने में पुलिस का शुरू से ही काफी लाचर रवैया रहा है। यही नहीं पुलिस ने गैर कानूनी तरीके से और जानबूझकर बलात्कार पीड़िता को उत्पीड़ित करने के लिए उसके नाम को भी सार्वजनिक कर दिया। इसके साथ-साथ पुलिस ने जिन धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है उसमे बलात्कार की धाराओं को शामिल ही नहीं किया गया है जिससे पुलिस, सरकार और आरोपी पक्ष का अपवित्र गठजोड़ साफ दिखाई पड़ता है।



       ध्यान देने की बात है कि पिछले सालों में देश भर में महिलाओं पर हिंसा और हमले की घटनाएं बढीं हैं। बेहद शर्म की बात है कि कई मामलों में राज्य सरकारों ने ही आरोपियों और अपराधियों को बचाने का प्रयास किया है। भाजपा की सरकार ने उत्तर प्रदेश में अपने एक विधायक को न सिर्फ़ बचाने का प्रयास किया बल्कि पीड़िता के पिता को गिरफ्तार कर हवालात में पीट कर मार डाला। इस भय-मुक्त तरीके से इसीलिए महिलाओं के खिलाफ अपराध हो रहे हैं क्योंकि सरकारों और पुलिस के गठजोड़ के कारण ही यह संभव हो पा रहा है।

       केवाईएस मांग करता है कि तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानी स्वामी महिलाओं की सुरक्षा करने में विफल होने के लिए अपना इस्तीफा दें। साथ ही, इस मामले में शामिल सभी अपराधियों को पकड़ा जाये और पुलिस, अपराधियों और सरकार की मिलीभगत को उजागर किया जाये| केवाईएस ने आने वाले दिनों में महिला सुरक्षा के लिए अपना आंदोलन तेज़ करने का निर्णय लिया है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां