Latest Activities

6/recent/ticker-posts

अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के मौके पर नौकरी से निकाले गए सफाई कर्मचारी!


नई दिल्ली, 1 मई 2019:  क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) ने आज अन्य संगठनों के साथ मिलकर, आर्ट्स फ़ैकल्टी, दिल्ली विश्वविद्यालय पर डीयू के सफाई कर्मचारियों के धरना प्रदर्शन में हिसीदारी निभाई| ज्ञात हो कि सफाईकर्मी अपनी नौकरी जाने के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे| यह सफाईकर्मी एनजीओ, सुलभ इंटरनेशनल में कार्यरत थे, और दिल्ली विश्वविद्यालय में पिछले 10-15 सालों से काम कर रहे थे| मगर, उन्हें आज से नौकरी से हटा दिया गया है, क्योंकि सुलभ के साथ डीयू ने अपने अनुबंध को खत्म कर, उसका काम अब नयी कंपनी, नेक्सजेन को दे दिया है| ध्यान देने योग्य बात है कि सफाईकर्मियों को मई दिवस या अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस के मौके पर निकाला गया है, जो दिखाता है कि मौजूदा व्यवस्था कितनी मजदूर-विरोधी है|

          सुलभ का कांट्रैक्ट खत्म किए जाने से सैकड़ों मजदूरों की नौकरी चली गयी है| सुलभ को डीयू द्वारा 2005 में सफाई के काम के लिए अनुबंधित किया गया था| मगर, सुलभ द्वारा सफाई मजदूरों का अति-शोषण किया जाता था| सुलभ न केवल मजदूरों को भविष्य निधि और ई.एस.आई सुविधा नहीं देती थी, बल्कि उनको लंबे घंटे काम करवाने के बावजूद उनको ओवरटाइम का भी पैसा नहीं देती थी| डीयू प्रशासन इस बात को पूरी तरह से जानबूझकर नज़रअंदाज़ करता रहा, जिससे यह साफ पता चलता है कि वो मजदूरों के हक भी नहीं सुनिश्चित करता था| जब कुछ सफाईकर्मियों ने मिलकर इसके खिलाफ कोर्ट में मुकदमा किया, तब ही जाकर सुलभ का अनुबंध खत्म कर नयी कंपनी को लाया गया|

          मगर अब जो मजदूर पहले से नौकरी में थे, उन सभी को बाहर निकाल दिया गया है| डीयू, जो कि मुख्य नियोक्ता है, उसको यह सुनिश्चित करना चाहिए था कि जो लोग पहले से कार्यरत थे, उनको नयी कंपनी द्वारा काम पर रखा जाये| मगर डीयू ने अपनी इस ज़िम्मेदारी से पूरी तरह से पल्ला झाड़ लिया है| यह इस पूरे मामले में डीयू की मिलीभगत दिखाता है,क्योंकि मजदूरों के हक सुनिश्चित करना उसी की ज़िम्मेदारी है| सफाई कर्मचारियों ने डीयू के खिलाफ अपना संघर्ष जारी रखने का निर्णय लिया है| केवाईएस आने वाले दिनों में मजदूरों के साथ उनके संघर्ष में अपनी एकता सुनिश्चित करेगा|

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां