Latest Activities

6/recent/ticker-posts

CRSU गेट पर आक्रोश प्रदर्शन कर केंद्रीय शिक्षा मंत्री के नाम जींद उपायुक्त को सौपा ज्ञापन

आज क्रांतिकारी युवा संगठन ने फाइनल ईयर के एग्जाम के फैसले की यूजीसी की प्रीतिया सी आर एस यु गेट पर फूंक कर विरोध प्रदर्शन किया। साथी रवि ने बताया कि यूजीसी की 6 जुलाई ,2020 को आये नए दिशा-निर्देशों के तहत हर विश्वविद्यालय को फाइनल ईयर के एग्जाम करवाना अनिवार्य कर दिया है। लेकिन पूरे देश मे जब प्रतिदिन कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे है और संक्रमण बड़ी तेजी से फ़ैल रहा है तो ऐसी स्थिति में किसी भी विश्वविद्यालय के लिए एग्जाम करवाना कोरोना के खतरे को बढ़ाने जैसा होगा। और कई राज्यों की सरकारों ने अपने राज्य में सभी छात्रों को अगली क्लास में प्रोमोट कर दिया था, लेकिन नई गाइडलाइन के बाद संशय की नई स्थिति पैदा हो गयी है। पूरे देश मे छात्र प्रोमोट करने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। छात्रों की मांग है कि उनको उनके पिछ्ले सेमेस्टर के रिजल्ट के आधार पर प्रोमोट किया जाये।


छात्रों का कहना है कि इस साल उनका न तो सिलेबस पूरा हो पाया हो पाया था और जो ऑनलाइन जो क्लासेज लगाई गई थी उनका के लिए भी छात्रों के पास पर्याप्त उपकरण नहीं थे जिस कारण वो अच्छे तरीकसे क्लासेज नहीं ले पाए। कई राज्यों में अभी भी परिवहन व्यवस्था सुचारू रूप से नही चल रही है जिस कारण छात्रों को एग्जाम सेंटर तक पहुंचने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।

हमारी मांगे:
  1. सभी फाइनल ईयर के छात्रों को भी पिछले सेमेस्टर के रिजल्ट के आधार पर प्रोमोट किया जाए।
  2. सभी छात्रों को 10% नंबर का अतिरिक्त वेटेज दिया जाए।
  3. री अपीयर वाले छात्रों की परीक्षा सामान्य परिस्थितियों में करवाई जाए ।
  4. आगामी क्लासेज में एडमिशन फीस माफ की जाए या छूट दी जाए।
  5. कोरोना के कारण स्थगित हुई प्रतियोगी परीक्षाओं में जिन उम्मीदवारों की आयु सीमा पूरी हो गयी है उनको आगामी परीक्षा में 6 महीने की आयु सीमा की छूट दी जाए।
हम उम्मीद करतें है कि हमारी इन मांगों पर जल्द से जल्द कोई सकारात्मक कदम उठाएंगे ,अन्यथा छात्र अपनी मांगों के लिए आंदोलन करने से भी पीछे नहीं हटेंगे।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां