Latest Activities

6/recent/ticker-posts

केवाईएस ने डीयू के उदासीन रवैये की कड़ी भर्त्सना की! एमएचआरडी और यूजीसी से तुरंत हस्तक्षेप कर छात्रों का भविष्य बचाने की मांग की!

केवाईएस ने डीयू के उदासीन रवैये की कड़ी भर्त्सना की! एमएचआरडी और यूजीसी से तुरंत हस्तक्षेप कर छात्रों का भविष्य बचाने की मांग की!



क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) ने दिल्ली विश्वविद्यालय के अंतिम सेमेस्टर/वर्ष के छात्रों की परीक्षाएँ करवाने के फैसले को लेकर उसके अड़ियल रवैये की कड़ी भर्त्सना करता है| ज्ञात हो कि छात्र और शिक्षक दोनों ही इस फैसले को वापस लेने की मांग कर रहे थे, लेकिन डीयू उनकी समस्याओं को लेकर उदासीन रुख अख़्तियार किए रहा| ऑनलाइन ओपन बुक परीक्षा का आज पहला दिन था, और डीयू का फैसला नाकाम साबित हुआ है| यह प्रेस विज्ञप्ति लिखे जाने तक, छात्र भारी समस्याओं से जूझ रहे थे, और इसको देखते हुए यह साफ है कि डीयू का परीक्षा करवाने का फैसला छात्रों के लिए एक विनाशकारी फैसला साबित होगा|

जिन छात्रों ने परीक्षा देने के लिए वेबसाइट खोलने का प्रयास किया उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ा| वेबसाइट पर डीयू की लापरवाही के उदाहरण भी देखने को मिले| छात्रों ने शिकायत की कि डैशबोर्ड पर गलत प्रश्न पत्र अपलोड किया गया है, कई छात्रों ने यह भी बताया कि उनके अपने जबाव अपलोड करने से पहले ही वैबसाइट समय समाप्त दिखाने लगी| डीयू के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (एसओएल) के एक छात्र ने बताया कि उसको आज दो विषयों के प्रश्नपत्र मिले, जिनके जवाब उसको आज ही एक ही समय में देना था (फोटो संलग्न)| उस छात्र ने एसओएल और परीक्षा विभाग पर फोन कर इसका निवारण करने की कोशिश की, लेकिन उसको कोई जवाब नहीं मिला| समस्याएँ झेल रहे कई छात्रों ने केवाईएस के कार्यकर्ताओं से संपर्क किया| एक छात्र, दीपक ने बताया कि उसने जब 4 घंटे की परीक्षा में 3 घंटे बाद अपने जवाब अपलोड करने की कोशिश की, तो वैबसाइट समय समाप्त बताने लगी| यहां ध्यान देने की जरूरत है कि यह समस्याएं उन छात्रों को हुई, जिनके पास इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध है, जबकि यह आसानी से कहा जा सकता है कि हजारों की संख्या में ऐसे छात्र हैं जो स्थिर इंटरनेट की सुविधा न होने के कारण परीक्षा न दे पाये हों, जैसा कि मोक टेस्ट के दौरान देखा गया था|

केवाईएस डीयू के रवैये की कड़ी भर्त्सना करता है और तमाम दिक़्क़तों के बावजूद भी ऑनलाइन परीक्षा करवाने के हठ में डीयू छात्रों के जीवन से खिलवाड़ करने की निंदा करता है| इन भारी समस्याओं के बावजूद, डीयू प्रशासन यह माने बैठा है कि आने वाले दिनों में सभी कुछ सुचारू रूप से चलेगा| केवाईएस मांग करता है कि एमएचआरडी और यूजीसी तुरंत हस्तक्षेप कर छात्रों का भविष्य बचाने की चेष्टा करें|

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां